Tuesday, November 4, 2014

विवेचना के इक्कीसवें राष्ट्रीय नाट्य समारोह का भव्य उद्घाटन



ठहाकों के बीच संपन्न हुआ कंजूस नाटक का मंचन
विवेचना के नाट्य समारोह का यह 21 वां साल था। नाट्यगृह तरंग को रोशनी और रंगारंग बोर्ड से सजाया गया था जो अपनी भव्यता के कारण सभी को आकर्षित कर रहा था। विवेचना के इक्कीसवें राष्ट्रीय नाट्य समारोह का उद्घाटन जाने माने अभिनेता व निर्देशक श्री अशोक बांठिया ने किया। श्री  अशोक बांठिया 9 अक्टूबर को होने जा रही प्रस्तुति नियति के निर्देशक हैं। इस अवसर पर विवेचना के हिमांशुु राय, वसंत काशीकर, बांके बिहारी ब्यौहार, अनिल श्रीवास्तव उपस्थित थे। मध्यप्रदेश विद्युत मंडल परिवार की ओर से  श्री मनु श्रीवास्तव सी एम डी, श्री डी के गुप्ता महासचिव क्रीड़ा परिषद व श्री शैलेन्द्र महाजन, एस पी हरिनारायणाचारी मिश्र, कलेक्टर शिवनारायण रावला उपस्थित थे।
इस अवसर पर श्री अशोक  बांठिया ने कहा कि विवेचना का यह समारोह और इसी कारण जबलपुर पूरे देश में जाना जाता है। हिमांशु राय ने नाट्य समारोह और इसमें आमंत्रित नाटकों व निर्देशकों के बारे में बताया। श्री बांकेबिहारी ब्यौहार ने संचालन किया।
नाट्य समारोह के उद्घाटन के पश्चात् विवेचना के कलाकारों ने  ’कंजूस’ नाटक का मंचन किया। यह नाटक  फ्रेंच नाटक कार का लिखा  350 साल पुराना हास्य नाटक है जिसके मंचन पूरी दुनिया में होते रहे हैं। हजरत आवारा के द्वारा किए गए इस रूपांतर के  मंचन  एन एस डी रिपर्टरी ने भी किए हैं।
मिर्ज़ा सख़ावत बेग बुजुर्ग हैं पर दूसरी शादी की ख़्वाहिश रखते हैं। मगर वो चाहते हैं कि लड़की कमउम्र हो, कमखर्च हो और साथ में दहेज भी लाए। उनके पास बहुत पैसा भी है और वो उसे छुपा कर रखते हैं। उनका लड़का फरूख और लड़की अजरा भी शादी लायक हैं उनके भी अपने सपने हैं। पर मिर्जा सखावत बेग की उनकी शादियों के लिए भी अपनी चालें हैं। वो पैसा बचाने के लिए अपनी लड़की अजरा की शादी एक बुजुर्ग असलम से करने की तैयारी में हैं। और एक गरीब लड़की मरियम से खुद शादी करने की फिराक में हैं जो उनके लड़के फरूख की मंगेतर है। इसी बीच नाटकों में संयोगों और गड़बड़ियों की बारिश शुरू हो जाती है। ऐसे ताने बाने और जोड़ तोड़ बनते हैं दर्शक लोट पोट हो जाते हैं।
नाटक में मिर्जा बने आशीष नेमा, फरजीना बनी दीपा सिंह और अल्फू के रोल में विनय शर्मा ने खूब प्रभावित किया। अजरा के रोल में दीप्ति सिंह, फरूख बने ब्रजेन्द्र सिंह, नम्बू के रोल अक्षय ठाकुर नासिर बने आयुष राय मरियम बनी खूशबू जेठवा, हवलदार बने सीताराम सोनी और असलम के रोल में संजय जैन दलाल बने सौरभ पाठक खूब जमे। आशीष नेमा मुख्य किरदार में थे और उन्होंने अपने अभिनय का जलवा खूब दिखाया।
नाटक में तपन बैनर्जी का निर्देशन चुस्त था। दर्शकों को हंसाने में कामयाब रहे। संजय गर्ग की मंच व्यवस्था अनुकूल थी। वेशभूषा और मेकअप नाटक के अनुरूप था।





भव्य नाटकों का है दर्शकों को इंतजार: विवेचना का 21 वां राष्ट्रीय नाट्य समारोह



विवेचना का इक्कीसवां राष्ट्रीय नाट्य समारोह आगामी 08 अक्टूबर से 12 अक्टूबर 2014 तक तरंग प्रेक्षागृह में आयोजित है। इस समारोह की विशेषता यह है कि इस समारोह में जबलपुर के बाहर से आमंत्रित सभी नाटक राष्ट्रीय  नाट्य विद्यालय ( एन एस डी) से शिक्षित निर्देशकों द्वारा निर्देशित हैं। इस नाट्य समारोह की दूसरी खासियत यह है कि इसमें आज के समय के सर्वाधिक चर्चित नाटक मंचित होने जा रहे हैं।
पहले दिन 08 अक्टॅूबर को आयोजक संस्था विवेचना के नाटक ’कंजूस’ का मंचन होगा। फ्रंेच नाटककार मोलियर का यह नाटक पिछले 400सौ सालों से पूरी दुनिया को गुदगुदा रहा है। ये एक कंजूस बुजुर्ग की कहानी है जो बुढ़ापे में दूसरी शादी करने पर आमादा हैं पर पैसा भी नहीं खर्च करना चाहते और लड़की की उम्र भी ज्यादा होना पसंद नहीं है। साथ में दहेज भी चाहते हैं। इसका निर्देशन तपन बैनर्जी ने किया है।
समारोह का दूसरा नाटक जयपुर की संस्था नाट्यकुलम् द्वारा अशोक बांठिया के निर्देशन में मंचित होगा। ’नियति’ नामक यह नाटक सुप्रसिद्ध ग्रीक त्रासदी नाटक ’इडिपस’ का भारतीय परिवेश में किया गया रूपांतर है। इस नाटक की कहानी विश्वप्रसिद्ध है और इडिपस काम्पलेक्स शब्द इसी नाटक से बना है। इस नाटक का इंतजार जबलपुर के दर्शक वर्षों से कर रहे हैं।  
तीसरे दिन मुखातिब, मुम्बई द्वारा इश्तियाक आरिफ खान के लेखन और निर्देशन मेें मुम्बई के कलाकारों द्वारा ’सार्थक बहस’ का मंचन किया जाएगा। यह नाटक टी वी में होने वाली बहसों के बहाने नाटक वालों और देशवासियों की व्यथा कथा कहता है। नाटक का अंदाज बहुत रोचक है और युवा कलाकारों ने बहुत अच्छा अभिनय किया है।
चौथे दिन आज के समय का सर्वाधिक प्रशंसित नाटक ’औरंगज़ेब’ का मंचन दिल्ली के कलाकार करेंगे। नाटक का निर्देशन राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के प्रो के एस राजेन्द्रन ने किया है। इंदिरा पार्थसारथी के तमिल नाटक का हिन्दुस्तानी रूपांतर शाहिद अनवर ने किया है। यह नाटक शाहजहां के अंतिम दिनों में शाही महल में शाहजहां के बेटों में
उत्तराधिकार  के लिए हुए संघर्ष की कहानी है जिसमें औरंगजेब और उसके भाई बहनों के बीच सत्ता के लिए चली लड़ाई के साथ ही सभी पात्रों के चरित्र भी प्रदर्शित होता है। इस नाटक के मंचन देश और विदेश में बहुत सराहे गए हैं। इस नाटक को पिछले 10 वर्षों का सर्वश्रेष्ठ नाटक माना जाता है।
पांचवें और अंतिम दिन नादिरा बब्बर का प्रसिद्ध नाटक ’ये है बाम्बे मेरी जान’ का मंचन एकजुट मुम्बई के कलाकार करेंगे। इस नाटक में मुम्बई के फिल्म टी वी जगत के जाने माने कलाकार शिरकत करेंगे। यह नाटक हिन्दी का बहुत पसंदीदा हास्य नाटक है। मुम्बई की फिल्मी दुनिया में प्रवेश पाने के लिए संघर्षरत युवाओं की कहानी इसमें बहुत मनोरंजक तरीके से कही गई है।  
विवेचना ने यह समारोह केन्द्रीय क्रीड़ा व कला परिषद एम पी पावर मैनेजमेंट कंपनी लि के साथ संयुक्त रूप से आयोजित किया है। प्रतिदिन संध्या 7़.30 बजे से तरंग ऑडीटोरियम में नाटक मंचित होंगे। विवेचना ने सभी नाट्यप्रेमियों से नाटकों का आनंद लेने का अनुरोध किया है। इस हेतु हिमांशु राय 9425387580, बंाकेबिहारी ब्यौहार 9827215749 वसंत काशीकर 9425359290 से संपर्क किया जा सकता है। 

’परसाई के लेखन से भारतीय लोकतंत्र परिमार्जित हुआ’

हिमांशु राय , डॉ विजय बहादुर सिंह , डॉ कुंदन सिंह परिहार 



ज्ञानरंजन जी के साथ मित्र मण्डली 

ज्ञानरंजन जी 

’परसाई के पास कहने को बहुत कुछ था। उनके जीवन के अनुभव बहुत विराट थे। उन्होंने बहुत कष्ट और दुःख झेले थे। उनकी भाषा बहुत सरल थी। उनके वाक्य बहुत छोटे छोट होते थे। वो हर चरित्र के अंदर झांक कर देखने और उसकी सच्चाई व्यक्त करने का सामर्थ रखते थे। बहुत कम उम्र में ही वो रामचरित मानस से लेकर पश्चिमी साहित्य तक सबकुछ पढ़ चुके थे। इसीलिए उनके लेखन में बहुत गहराई थी।’
ये विचार हिन्दी के सुप्रसिद्ध आलोचक व कवि डा विजय बहादुर सिंह ने विवेचना व पहल द्वारा परसाई जन्मदिवस पर आयोजित कार्यक्रम में व्यक्त किए। 22 अगस्त को हर वर्ष विवेचना और पहल द्वारा स्व हरिशंकर परसाई का जन्मदिवस मनाया जाता है। इस वर्ष  ’परसाई और भारतीय लोकतंत्र’ विषय पर डा विजय बहादुर सिंह को आमंत्रित किया गया था। डस विजय बहादुर सिंह ने कहा कि ’परसाई ने अपनी खास पहचान अखबारों में अपने कॉलम से बनाई। ये कॉलम बहुत प्रसिद्ध हुए। इन स्तंभों के जरिये उन्होंने जनता और जनप्रतिनिधियों का शिक्षण किया। जनता उन्हें अपना मार्गदर्शक मानती थी वहीं राजनीतिज्ञ उन्हें अपना कटु आलोचक मानते थे। उन्होंने राजनीतिज्ञों और राजनीति का परिमार्जन किया। राजनेताओं के बारे में आम पाठक हमेशा उनका नाम लिया करता था कि अरे इनके बारे में परसाई जी ने ये लिखा। उनका लेखन भारतीय लोकतंत्र के लिए विशिष्ट रहा है।
कार्यक्रम के शुरू में विवेचना  के सचिव हिमांशु राय ने अपना आलेख पढ़ा। ’परसाई परसाई कैसे बने’ इस आलेख में हिमांशु राय ने कहा कि परसाई जी पर नितांत बचपन से घटी घटनाओं मसलन मंा का बहुत छोटी उम्र में गुजर जाना, स्कूल में पढ़ते समय ही पूरे परिवार को चलाने की जिम्मेदारी आ जाना, स्कूल में बहुत अच्छे शिक्षकों का मिलना, उनका अपना विशिष्ट स्वभाव होना कुछ ऐसे गुण थे जिन्होंने परसाई को परसाई बनाया।
अध्यक्ष की आसंदी से बोलते हुए कार्यक्रम के अध्यक्ष कहानीकार श्री कुंदनसिंह परिहार ने कहा कि जबलपुर के लिए परसाई बहुत अपने थे। उनका पाठक बहुत सामान्य और आम आदमी था। उन्होंने आम पाठकों के लिए जो कुछ लिखा वो आम आदमी को उसके सही स्वरूप का आइना दिखाता है।
कार्यक्रम के शुरूआत में अतिथियों का स्वागत वसंत काशीकर, राजेन्द्र दानी, संजय गर्ग ने किया। कार्यक्रम का संचालन बांकेबिहारी ब्यौहार ने किया। आभार प्रदर्शन पंकज स्वामी ने किया।

परसाई जन्मोत्सव पर डा विजय बहादुर सिंह का व्याख्यान

विवेचना संस्था व पहल द्वारा 22 अगस्त को महान व्यंग्यकार स्व हरिशंकर परसाई का जन्मदिवस मनाया जा रहा है। विवेचना व पहल द्वारा प्रतिवर्ष 22 अगस्त को परसाई जन्मदिवस के अवसर पर एक आयोजन किया जाता है। इस अवसर पर विवेचना ने हिन्दी के सुप्रसिद्ध आलोचक डा विजयबहादुर सिहं, भोपाल को आमंत्रित किया है। डा विजयबहादुर सिंह ’परसाई और भारतीय लोकतंत्र’ विषय पर अपना व्याख्यान देंगे। इस अवसर पर अन्य अतिथि वक्ताओं के भाषण भी होंगे।
विवेचना व पहल का यह आयोजन  रानी दुर्गावती संग्रहालय, भंवरताल में संध्या 7 बजे आयोजित है। विवेचना व पहल की ओर से प्रो ज्ञानरंजन, राजेन्द्र दानी, हिमांशु राय, बांकेबिहारी ब्यौहार, वसंत काशीकर, संजय गर्ग ने सभी साहित्यप्रेमियों से इस अवसर पर उपस्थिति का अनुरोध किया है।

हिमांशु राय
सचिव

पाखंड के निर्मम आलोचक थे कबीर



भक्तिकाल के कवियों में कबीर अपने किस्म के अलग ही कवि हुए। अपने समय से विपरीत चलते हुए उन्होंनेमठाधीशों को चुनौती दी। उनकी लोकप्रियता के कारण उनके जाने के कारण उनका एक पंथ बन गया। वे आलोचक के रूप में दिखाई देते हैं जब वे धार्मिक पाखंडों पर हमला करते हैं। वे आम जनता का विवेक जगाना चाहते हैं और बार बार तर्क से अपनी बातों को अपने दोहों में कहते हैं। परसाई जी इसी कारण से अपने को कबीर की परंपरा में रखते थे। कबीर के तर्क अकाट्य हैं और तिलमिला देने वाले हैं।
ये विचार हैं डा शिवकुमार शर्मा ’मलय’ के जो उन्होंने विवेचना संस्था द्वारा ’कबीर की प्रासंगिकता’ पर बात करते हुए व्यक्त किए। डा मलय के पूर्व विवेचना के सचिव हिमांशु राय ने कहा कि कबीर के जाने के चार सौ साल बाद भी कबीर का लिखा हमारा मार्गदर्शन कर रहा है।
विषय पर बात करते हुए जी एस कॉलेज के प्राचार्य डा अरूण कुमार ने कहा कि कबीर निर्गुण ब्रह्म के उपासक थे। वे अनहद नाद की बात करते थे। वे अपने को ’हरि मोर पियु मैं राम की बहुरिया कहा करते थे। कबीर ने आज से चार सौ साल पहले एक जुलाहे के यहां पैदा होकर अपने ज्ञान, भक्ति और तर्क से एक नयी बयार बहाई जो आज भी हमें रास्ता दिखाती है। कबीर ने केवल स्थापित परंपराओं और कर्मकांडों पर ही प्रहार नहीं किया बल्कि भक्ति की एक अलग मार्ग भी सुझाया जो श्रेष्ठि वर्ग के मार्ग से बिल्कुल अलग था और समाज के निचले तबकों का प्रतिनिधित्व करता था।
इस अवसर पर संगोष्ठी में उपस्थित श्री हनुमंत शर्मा, बांकेबिहारी ब्यौहार, आदि ने भी अपने विचार व्यक्त किए। हिमांशु राय ने बताया कि भविष्य में विवेचना संस्था द्वारा विभिन्न ज्वलंत विषयों पर संगोष्ठियां आयोजित की जाएंगी।

थोड़ी शक्ति थोड़ा तमाशा, लेकिन मतलब के साथ





थोड़ी शक्ति, थोड़ा तमाशा लेकिन मतलब के साथ । जबलपुर के नवोदित रंगकर्मियों को यह सूत्र दिया सुप्रसिद्ध अभिनेता व निर्देशक जुगलकिशोर ने। भारतेन्दु नाट्य अकादमी के पूर्व निदेशक श्री जुगलकिशोर ने विवेचना के आयोजन में आज जबलपुर के नवोदित रंगकर्मियों को संबोधित करते हुए कहा कि एक अभिनेता को मंच पर अपनी उर्जा, अपनी अभिनय क्षमता का प्रदर्शन तो करना चाहिए लेकिन उसकी गतियों और भावाभिव्यक्तियों  में अर्थ भी होना चाहिए। इसके लिए कलाकार को केवल अभिनय ही नहीं वरन् अच्छे साहित्य का अध्ययन करना चाहिए। अभिनेता को अपने उच्चारण और बोली पर बहुत ध्यान देना चाहिए। हिन्दी उर्दू के शब्दों का सही उच्चारण हर कलाकार के लिए जरूरी है। चरित्र चित्रण के लिए उन्होंने कहा कि चरित्र की शारीरिक विशेषता, सामाजिक पृष्ठभूमि और उसकी मनोवैज्ञानिक अवस्था का अध्ययन करना आना चाहिए। उन्होंने फिल्म टी वी में जाने के इच्छुक कलाकारों को नाटक, फिल्म और टी वी के लिए अभिनय की अलग अलग तकनीकों को विस्तार से समझाया। उन्होंने कहा कि नाटक में अभिनेता का मंच पर प्रवेश बहुत मजबूत होना चाहिए। उसी से नाटक का भविष्य तय हो जाता है।
विवेचना द्वारा  दोपहर 2 बजे से भातखंडे सभागार में नवोदित नाट्यकलाकारों के लिए एक वर्कशॉप का आयोजन किया गया। लखनउ से पधारे वरिष्ठ अभिनेता निर्देशक जुगलकिशोर ने वर्कशॉप में कलाकारों को अल्पसमय में ही कई रंग व्यायाम करवाये। कलाकारों से कुछ गतियों और भावाभिव्यक्तियों का अभ्यास कराया गया। विवेचना के सचिव हिमांशु राय ने जुगलकिशोर जी का परिचय दिया। विवेचना के कला निर्देशक वसंत काशीकर व संजय गर्ग ने इस वर्कशॉप के संचालन में जुगलकिशोर जी का सहयोग किया।
कार्यक्रम के दूसरे चरण में श्री जुगलकिशोर ने गजानन माधव मुक्तिबोध की कविता ’अंधेरे में’ का पाठ किया। कविता पाठ के पूर्व वरिष्ठ कवि मलय जी ने ’अंधेरे में’ कविता के पृष्ठभूमि और उसके महत्व की चर्चा की। हिमांशु राय ने रंगकर्मियों के लिए ’अंधेरे में’ कविता के महत्व और उसकी मंचीयता के बारे में कहा कि इस कविता के अनेक मंचन देश में हुए हैं। इसमें बिम्बों और विचारों का अद्भुत तालमेल है। जुगलकिशार ने लंबी कविता के चुनिंदा अंशों का पाठ किया।
अब तक क्या किया,
जीवन क्या जिया!!
बताओ तो किस-किसके लिए तुम दौड़ गये,
करुणा के दृश्यों से हाय! मुँह मोड़ गये,
बन गये पत्थर,
बहुत-बहुत ज्यादा लिया,
दिया बहुत-बहुत कम,
मर गया देश, अरे जीवित रह गये तुम!!
लो-हित-पिता को घर से निकाल दिया,
जन-मन-करुणा-सी माँ को हंकाल दिया,
स्वार्थों के टेरियार कुत्तों को पाल लिया,
भावना के कर्तव्य--त्याग दिये,
हृदय के मन्तव्य--मार डाले!
बुद्धि का भाल ही फोड़ दिया,
तर्कों के हाथ उखाड़ दिये,
जम गये, जाम हुए, फँस गये,
अपने ही कीचड़ में धँस गये!!
विवेक बघार डाला स्वार्थों के तेल में
आदर्श खा गये!

अब तक क्या किया,
जीवन क्या जिया,
ज्यादा लिया और दिया बहुत-बहुत कम
मर गया देश, अरे जीवित रह गये तुम...!
कार्यक्रम के अंत में वरिष्ठ अभिनेत्री और साहित्यकार श्रीमती साधना उपाध्याय ने इस आयोजन को बहुत अहम् बताया। श्री बांकेबिहारी ब्यौहार ने आभार प्रदर्शन किया।   

अंधा युग के नाट्य पाठ से दर्शक प्रभावित

जब कोई भी मनुष्य अनासक्त होकर,
चुनौती देता है इतिहास को
उस दिन नक्षत्रों की दिशा बदल जाती है।
नियति नहीं है पूर्व निर्धारित
मानव इसे हर क्षण बनाता मिटाता रहता है।
उपरोक्त पंक्तियां हैं हिन्दी के सुप्रसिद्ध काव्य नाटक अंधा युग की जिसकी पाठ प्रस्तुति  विवेचना संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में अभिनेता -निर्देशक जुगलकिशोर ने की। उन्होंने कहा कि ’अंधा युग’ नाटक सन् 1954 में रेडियो के लिए धर्मवीर भारती ने लिखा है। तबसे इस नाटक के हजारों मंचन देश और दुनिया में हर भाषा में और हर शैली में हुए हैं। धर्मवीर भारती ने महाभारत का गहराई से अध्ययन कर हर पर्व से घटनाएं और पात्र लेकर इसे रचा है। यह नाटक दूसरे विश्वयुद्ध में हुए विनाश की पृष्ठभूमि में लिखा गया हिन्दी का ही नहीं भारत का प्रथम युद्धविरोधी नाटक है। महाभारत के पात्र इसमें हर कोई अपनी अपनी त्रासदी और अपना अपना पक्ष रखता है।
युद्धोपरांत, ये अंधा युग अवतरित हुआ
जिसमें स्थितियां, मनोवृत्तियां, आत्माएं सब विकृत हैं
एक बहुत पतली डोरी मर्यादी की
पर वो भी उलझी है दोनों ही पक्षों में
धर्मवीर भारती ने अंधा युग के बहाने भूत भविष्य वर्तमान दोनों के बारे में जो टिप्पणियां की हैं वो आश्चर्यजनक हैं। समय का ऐसा विश्लेषण कोई महान कवि ही कर सकता है।
उस भविष्य में
धर्म अर्थ ह्वासोन्मुख होंगे
क्षय होगा धीरे धीेरे सारी धरती का
सत्ता होगी उनकी जिनकी पूंजी होगी
जिनके नकली चेहरे होंगे, केवल उन्हें महत्व मिलेगा
राजशक्तियां लोलुप होंगी, जनता उनसे पीड़ित होकर
गहन गुफाओं में छिप छिप कर दिन काटेगी
जुगलकिशोर जी द्वारा किए गए नाट्यपाठ ने श्रोताओं को गहरे तक प्रभावित किया। संवादों का उतार चढाव, हाव भाव बहुत प्रभावशाली थे।
कार्यक्रम के प्रारंभ में हिमांशु राय ने कहा कि विवेचना द्वारा समय समय पर नाट्य प्रेमियों और साहित्य प्रेमियों के लिए ऐसे आयोजन किए जाते हैं जिनसे हम नई विधा और नए कलाकारों से मिल सकें। जुगलकिशोर भारत के जाने माने रंगकर्मी भी हैं और शिक्षक, अभिनेता, निर्देशक भी। नवोदित कलाकारों के साथ उनका संवाद बहुत जरूरी है। संजय गर्ग ने जुगलकिशोर जी का परिचय दिया। संजय गर्ग और वसंत काशीकर और अनिल श्रीवास्तव ने उनका गुलदस्ते से स्वागत किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता जबलपुर के वरिष्ठ रंगकर्मी श्री महेश गुरू ने की।
कार्यक्रम के दूसरे चरण में अंधा युग के नाट्य पाठ के पश्चात् ’आज का रंगकर्म’ विषय पर बोलते हुए जुगलकिशोर ने कहा कि आज के अभिनेता को मालूम होना चाहिए कि आज का युग कैसा युग है। ब्रेख्त ने कहा है आज हम सब वैज्ञानिक युग में जी रहे हैं। विज्ञान सर्वोपरि है तो विचारों का आकलन तार्किकता के आधार, वैज्ञानिक दृष्टि से ही होगा। उन्होंने कहा कि यह जरूरी है कि अभिनेता देश और व्यक्तियों के इतिहास और उनके कार्यों का मूल्यांकन करे। नाटक करने वाले के लिए जरूरी है कि वह देश के साहित्य से उसकी विविधता से परिचित हो। उन्होंने स्तानिस्लावस्की और जर्मन द्रामातूर का उदाहरण दिया जहां नाटक के पाठ के समय पहले कलाकारों को नाटक की पृष्ठभूमि और साहित्यिक मूल्यों से परिचित कराया जाता है। उन्होंने आज के समय में हिन्दी में आए कुछ नए नाटकों के मंचनों का ब्यौरा दिया और समकालीन थियेटर पर बात की।
कार्यक्रम के अंत में आभार प्रदर्शन बांके बिहारी ब्यौहार ने किया।